Winners Announced !

On the first of January we gave you an image as the starting point and you sent us beautiful begettings of your imagination. Of all the sent entries we selected two winners, one from each language — English and Hindi, but before we announce the winners,

We regretfully write that we received no entry from the language category : URDU (Nastaliq). It is saddening indeed, that such a beautiful language, saw no submissions. We, therefore, request to you and urge you to write in Urdu and preserve and propagate this language of love, of respect and politeness.

Now, this said, we announce the winners :

Click on each to read –

To not miss the coming month’s picture, plus the daily posts, subscribe to our mailing list.

आँखों में बीती सारी रात

By Shahabia Khan

आँखों में बीती सारी रात हम ना सो पाए
यादों में उनकी हमारी आँखें हरदम रो जाए

आसमाँ में मेहताब को देख उनका तसव्वुर आ जाए
तन्हाई का एहसास तभी दिल को बेचैन कर जाए

ख़ामोशी का पहर वो हिज्र की याद दिला जाए
बेपीर बेदर्द सा बनकर वो रूह को ज़ख्म दे जाए

चार सू हर दफ़ा ब-सबब ज़ेहन में वो ही आ जाए
जिसकी मिली है सज़ा बस इंतेज़ार में ही बीत जाए

हर पहर सोच में गुज़रे की कब चौखट पर वो आ जाए
देख उनको ही बस मेरा दिल फक़त यूँही मेहक जाए

इंतिहा हो गईं आँसुओं की इस ज़ीस्त में अब मेरी ही
हर रोज़ बिन देखें सारी रात ‘शहाबिया’ की यूँही गुज़र जाए

Shahabia Khan tries to express herself through her writings. Her poems have been anthologized in two books.