आँखों में बीती सारी रात

By Shahabia Khan

आँखों में बीती सारी रात हम ना सो पाए
यादों में उनकी हमारी आँखें हरदम रो जाए

आसमाँ में मेहताब को देख उनका तसव्वुर आ जाए
तन्हाई का एहसास तभी दिल को बेचैन कर जाए

ख़ामोशी का पहर वो हिज्र की याद दिला जाए
बेपीर बेदर्द सा बनकर वो रूह को ज़ख्म दे जाए

चार सू हर दफ़ा ब-सबब ज़ेहन में वो ही आ जाए
जिसकी मिली है सज़ा बस इंतेज़ार में ही बीत जाए

हर पहर सोच में गुज़रे की कब चौखट पर वो आ जाए
देख उनको ही बस मेरा दिल फक़त यूँही मेहक जाए

इंतिहा हो गईं आँसुओं की इस ज़ीस्त में अब मेरी ही
हर रोज़ बिन देखें सारी रात ‘शहाबिया’ की यूँही गुज़र जाए

Shahabia Khan tries to express herself through her writings. Her poems have been anthologized in two books.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s